BCA Course Details in Hindi- BCA Full Form, Duration, Fees in India- हिंदी में

BCA Full Form and Course details in Hindi: दोस्तों आज के इस डिजिटल समय में कंप्यूटर और इंटरनेट को काफी ज्यादा उपयोग किया जाने लगा है। इसलिए आज BCA Course से सम्बंधित जो लेख हम आपके लिए ले कर आये हैं वह उन विद्यार्थियों के लिए लाभप्रद है जो कंप्यूटर चलाने या सीखने में रुचि रखते हैं।

जो स्टूडेंट कंप्यूटर सीख कर उसी क्षेत्र में अपना कैरियर बनाने की सोच रहे हैं उन्हें बीसीए कोर्स के बारे में जानना जरूरी होता है।

लेख में बीसीए कोर्स से संबंधित सारी जानकारी दी गई है जैसे BCA Course Details in Hindi, बीसीए कोर्स information, BCA Full form in Hindi, बीसीए कोर्स Eligibility, बीसीए कोर्स Duration, बीसीए College in India, बीसीए कोर्स Fees, बीसीए कोर्स Syllabus, बीसीए कोर्स Scope, बीसीए कोर्स के फायदे क्या हैं, बीसीए करने के बाद कैरियर विकल्प क्या हैं इत्यादि। तो आइए इस लेख को अंत तक पढ़ते हैं।

bca-course-details-in-hindi
Girl laptop photo created by diana.grytsku – www.freepik.com

What is BCA Course Details in Hindi | BCA Full Form in Hindi

BCA Kya Hota Hai: बीसीए, कंप्यूटर के क्षेत्र का एक प्रमुख कोर्स है। इस कोर्स में कंप्यूटर से संबंधित सारी जानकारी दी जाती है या सिखाई जाती है। BCA Ka Full Form ‘Bachelor of Computer Application’ होता है और यह एक अंडरग्रेजुएशन डिग्री कोर्स है।

बीसीए कोर्स आज की तारीख में काफी ज्यादा डिमांड में हैं। इस कोर्स के कई सारे फायदे हैं जो हम आगे लेख में चर्चा करने वाले हैं। जो स्टूडेंट कंप्यूटर और टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में अपना कैरियर बनाना चाहते हैं उनके लिए यह कोर्स काफी अच्छा विकल्प है।

BCA Course information in Hindi | BCA Course Duration

BCA एक बैचलर डिग्री कोर्स है। इस कोर्स को पूरा करने के लिए 3 साल का समय लगता है। इन 3 सालों में 6 सेमेस्टर होते हैं, जिसके हिसाब से समय समय पर टेस्ट भी लिए जाते हैं।

इस कोर्स के 3 सालों के दौरान कैंडिडेट या स्टूडेंट को कंप्यूटर से संबंधित सारे विषयों पर जानकारी दी जाती है। जैसे वेबसाइट बनाना, प्रोग्रामिंग लैंग्वेज, डाटा स्ट्रक्चर, एप्लीकेशन बनाना, नेटवर्किंग इत्यादि। इसके अलावा इन विषयों पर प्रशिक्षण भी दिया जाता है।

इस कोर्स में स्टूडेंट को कंप्यूटर के क्षेत्र में निपुण कर दिया जाता है ताकि वे किसी भी बड़ी कंपनी या सरकारी सेक्टर के अंदर आसानी से जॉब पा सकें और एक अच्छे कैरियर की शुरुआत कर सकें।

ये भी पढ़ें:

BCA कोर्स के फायदे

आज के इस टेक्नोलॉजी के समय में कंप्यूटर और इंटरनेट को हर जगह बढ़ावा दिया जा रहा है। हर जगह, हर एक सेक्टर में कंप्यूटर की जरूरत पड़ती है। जिसकी वजह से बीसीए कोर्स करने वालों की डिमांड काफ़ी ज्यादा है। इस कोर्स को करने के कई सारे फायदे हैं जो निम्न प्रकार हैं।

  • बीसीए कोर्स करने से कंप्यूटर और इंटरनेट सम्बंधित बहुत सारी जानकारी मिलती है।
  • बीसीए कोर्स करने के बाद आसानी से जॉब मिल सकती है।
  • बीसीए कोर्स के माध्यम से स्टूडेंट डिजिटल फील्ड में अपना कैरियर बना सकते हैं।
  • इस कोर्स को करने के बाद मिलने वाली जॉब में ज्यादा मेहनत का काम नहीं होता है।
  • कम मेहनत करके ज्यादा पैसा कमा सकते हैं।
  • बीसीए कोर्स करके जॉब के अलावा खुद का स्टार्टअप ओपन कर सकते हैं।
  • खुद का नेटवर्क बनाकर काम कर सकते हैं।
  • भारत के अंदर इस क्षेत्र में कैंडिडेट की बहुत ज्यादा डिमांड है।
  • इस कोर्स के माध्यम से आप सिर्फ भारत के ही पैसे नहीं कमाते हैं बल्कि इसमें सिखाई गयी स्किल की मदद से आप डॉलर में भी कमा सकते हैं।
  • बीसीए कोर्स करने के बाद आप घर बैठे फ्रीलांसिंग के काम भी कर सकते हैं।
  • बीसीए डिग्री धारक कैंडिडेट को डिजिटल मार्केटिंग के लिए बड़ी बड़ी कंपनियों में जॉब के अवसर दिए जाते हैं।

इसके अलावा बीसीए कोर्स करने के और भी कई सारे फायदे हैं जो आपको आगे इसी लेख में विस्तार से जानने को मिलेंगे।

BCA Course Eligibility in Hindi | योग्यता

अभी आपने ऊपर जाना कि बीसीए कोर्स एक अंडरग्रेजुएट कोर्स है। इसमें एडमिशन लेने के लिए स्टूडेंट के भीतर कुछ योग्यताओं का होना अनिवार्य है। बीसीए कोर्स को करने के लिए योग्यतायें इस प्रकार हैं।

  • स्टूडेंट 12 वीं पास होना चाहिए।
  • 12 वीं कक्षा में अंग्रेजी, विज्ञान और गणित विषय होना अनिवार्य हैं।
  • स्टूडेंट को 12 वीं में कम से कम 45 प्रतिशत अंक प्राप्त होना चाहिए।
  • कुछ कॉलेजों में बीसीए कोर्स में एडमिशन लेने के लिए 60 प्रतिशत अंक होने अनिवार्य होते हैं।
  • स्टूडेंट या कैंडिडेट की उम्र कम से कम 18 वर्ष होनी चाहिए।
  • बीसीए कोर्स में एडमिशन लेने के लिए प्रवेश परीक्षा में सफल होना अनिवार्य है।

ये कुछ योग्यता या शर्तें हैं जिन्हे स्टूडेंट या कैंडिडेट को पूरी करनी पड़ती है। उसके बाद ही बीसीए कोर्स के लिए योग्य बनता है।

बीसीए कोर्स Admission | BCA Course Entrance Exam

bca-course-details-in-hindi-bca-full-form
Computer class photo created by pch.vector – www.freepik.com

बीसीए कोर्स में एडमिशन लेने से पहले स्टूडेंट को ऊपर बताई गयी योग्यताओं को पूरा करना पड़ता है। इसके बाद ही स्टूडेंट बीसीए कोर्स में एडमिशन लेने में सक्षम होते हैं।

12 वीं के बाद बीसीए करने के लिए स्टूडेंट्स को कॉलेज द्वारा आयोजित किए गए एंट्रेंस एग्जाम यानि प्रवेश परीक्षा में पास होना पड़ता है। जिसके बाद कॉलेज द्वारा एक मेरिट लिस्ट जारी की जाती है। उस मेरिट लिस्ट में यदि स्टूडेंट का नाम आ जाता है तो उन्हें कॉलेज में एडमिशन मिल जाता है।

कुछ कॉलेजों में बिना प्रवेश परीक्षा यानि बिना एंट्रेंस एग्जाम के डायरेक्ट ही एडमिशन मिल जाता है। सरकारी कॉलेजों या संस्थाओं में ज्यादातर प्रवेश परीक्षा पास करने के बाद ही दाखिला लिया जाता है।

12 वीं के बाद BCA Course Entrance Exam के लिए स्टूडेंट ऑनलाइन या ऑफलाइन दोनों तरीके से आवेदन दे सकते हैं। आवेदन देते समय स्टूडेंट या कैंडिडेट को कुछ फीस देनी पड़ सकती है जिसके बाद ही आप आवेदन फॉर्म को जमा कर सकते हैं।

BCA Course Fees in Govt College and Private College

बीसीए कोर्स करने से पहले इस कोर्स की फीस के बारे में जानना स्टूडेंट के लिए जरूरी होता है। आपको बता दें कि सरकारी कॉलेजों और प्राइवेट कॉ लेजों में बीसीए कोर्स की फीस में काफी अंतर होता है। सरकारी कॉलेज में प्राइवेट कॉलेज या निजी संस्थाओं के मुकाबले कम फीस ली जाती है।

सरकारी कॉलेजों में औसतन BCA Course Fees लगभग 10 हज़ार रुपए प्रति सेमेस्टर होती है। जबकि प्राइवेट कॉलेज में यह फीस बढ़कर 25 हजार रुपए से लेकर 50 हज़ार रुपए तक प्रति सेमेस्टर हो सकती है।

विभिन्न कॉलेजों में अलग अलग फीस होती है। इसलिए स्टूडेंट को बीसीए कोर्स में एडमिशन लेने से पहले कॉलेज में जाकर फीस और बाकी सभी चीजों के बारे में जानकारी ज़रूर ले लेनी चाहिए।

ये भी पढ़ें:

Top College for BCA Course in Hindi | प्रमुख कॉलेज

भारत में बीसीए कोर्स के लिए कई सारे कॉलेज और संस्थान स्थित है जिनमें से कुछ प्रमुख नाम निम्न प्रकार से हैं

  • पंजाब यूनिवर्सिटी (चंडीगढ़)
  • शारदा यूनिवर्सिटी (ग्रेटर नोएडा)
  • हिंदुस्तान इंस्टीट्यूट आफ टेक्नोलॉजी एंड साइंस (चेन्नई)
  • बिरला इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी
  • इंटीग्रल यूनिवर्सिटी (लखनऊ)
  • चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी
  • महाराजा सयाजीराव यूनिवर्सिटी ऑफ़ बड़ौदा
  • लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी
  • डी ए वी कॉलेज (चंडीगढ़)
  • इंस्टीट्यूट आफ बिजनेस स्टडीज एंड रिसर्च
  • वेल्लोर इंस्टीट्यूट आफ टेक्नोलॉजी
  • लोयोला कॉलेज
  • प्रेसीडेंसी कॉलेज
  • एस आर एम इंस्टीट्यूट आफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी
  • क्राइस्ट यूनिवर्सिटी
  • दिल्ली यूनिवर्सिटी
  • एस के एम यू यूनिवर्सिटी

उदाहरण स्वरूप ये कुछ ही कॉलेजों के नाम हैं। इनके अलावा भारत में हर एक राज्य में कई सारे बीसीए कोर्स आयोजित करने वाले कॉलेज उपलब्ध हैं। इनमें आप अपनी सुविधानुसार एडमिशन ले सकते हैं।

BCA Course Subjects Details (BCA Syllabus in Hindi)

बीसीए कोर्स को पूरा करने में 3 वर्ष का समय लगता है। इन 3 वर्षों में बीसीए कोर्स के सभी विषयों को 6 सेमेस्टर में विभाजित करके विद्यार्थियों को पढ़ाया जाता है जिसका विवरण इस प्रकार है।

पहला सेमेस्टर (BCA Subjects 1st Year)

  • Hardware Lab
  • Creative English
  • Foundation Mathematics
  • Statistics I for BCA
  • Digital Computer Fundamentals
  • Introduction to Programming Using C
  • C Programming Lab
  • PC Software Lab

दूसरा सेमेस्टर

  • Case Tools Lab
  • Communicative English
  • Basic Discrete Mathematics
  • Operating System
  • Data Structures
  • Data Structures Lab
  • Visual Programming Lab

तीसरा सेमेस्टर

  • Interpersonal Communication
  • Introductory Algebra
  • Financial Accounting
  • Software Engineering
  • Database Management Systems
  • Object Oriented Programming Using C++
  • C++ Lab
  • Oracle Lab
  • Domain Lab

चौथा सेमेस्टर

  • Professional English
  • Financial Management
  • Computer Networks
  • Programming in Java
  • Java Programming Lab  
  • DBMS Project Lab
  • Web Technology Lab
  • Language Lab

पांचवा सेमेस्टर

  • Unix Programming
  • OOAD Using UML
  • User Interface Design
  • Graphics and Animation
  • Python Programming
  • Business Intelligence
  • Unix Lab
  • Web Designing Project
  • Graphics and Animation Lab
  • Python Programming Lab
  • Business Intelligence Lab

छठवां सेमेस्टर

  • Design and Analysis of Algorithms
  • Client Server Computing
  • Computer Architecture
  • Cloud Computing
  • Multimedia Applications
  • Introduction To Soft Computing
  • Advanced Database Management System  

Jobs After BCA Course Hindi | बीसीए कोर्स के बाद जॉब

bca-course-details-in-hindi-bca-full-form-in-hindi
Image by StartupStockPhotos from Pixabay

बीसीए कोर्स करने के बाद स्टूडेंट के सामने कई सारे जॉब के विकल्प खुल जाते हैं। जिनमें से कुछ प्रमुख जॉब इस प्रकार हैं।

  • सॉफ्टवेयर डेवलपर
  • वेबसाइट डेवलपर
  • प्रोग्रामर
  • डिजिटल मार्केटर
  • डाटा साइंटिस्ट
  • प्रोडक्ट मैनेजर
  • ब्लॉकचेन डेवलपर्स
  • साइबर सिक्योरिटी एक्सपर्ट
  • सिस्टम एडमिन
  • नेटवर्क इंजीनियर
  • प्रोजेक्ट असिस्टेंट
  • सॉफ्टवेयर पब्लिशर
  • कंप्यूटर सपोर्ट सर्विस स्पेशलिस्ट

इन सभी के अलावा और भी कई सारे जॉब के अवसर उपलब्ध होते हैं, जिसमें से कैंडिडेट अपनी सुविधा के अनुसार किसी भी जॉब को चुन सकते हैं।

ये भी पढ़ें:

BCA Course Salary

बीसीए कोर्स करने के बाद कैंडिडेट को मिलने वाले किसी भी क्षेत्र के जॉब में लगभग 3 लाख रुपए से लेकर 6 लाख रुपए तक प्रतिवर्ष का पैकेज मिल सकता है। शुरुआत में वेतन कम होता है लेकिन  कैंडिडेट के अनुभव के साथ साथ वेतन में भी वृद्धि होती जाती है।

मुख्यत: सॉफ्टवेयर डेवलपर के क्षेत्र में जॉब पाने से कैंडिडेट को लगभग 12 लाख रुपए से लेकर 20 लाख रुपए तक प्रति वर्ष का पैकेज दिया जाता है जो एक बहुत ही अच्छा कैरियर विकल्प साबित होता है। इसलिए आप बीसीए कोर्स को बेझिझक चुन सकते हैं और अपने अच्छे कैरियर की शुरुआत कर सकते हैं।

Frequently Asked Questions (FAQs)

बीसीए का फुल फॉर्म क्या है- What is BCA Course Full Form in Hindi?

BCA Ka Full Form, Bachelor of Computer Application होता है।

बीसीए कोर्स कितने वर्षों का होता है?

बीसीए कोर्स को पूरा करने में 3 वर्ष का समय लगता है। जिसमें 6 सेमेस्टर होते हैं।

बीसीए कोर्स कब और कैसे किया जाता है?

बीसीए कोर्स को आप 12 वीं पास करने के बाद कर सकते हैं। इस कोर्स में एडमिशन लेने के लिए स्टूडेंट को कॉलेज द्वारा आयोजित एंट्रेंस एग्जाम को पास करना पड़ता है। जिसके बाद मेरिट लिस्ट में स्टूडेंट का नाम आने पर ही एडमिशन दिया जाता है।

बीसीए कोर्स में क्या पढ़ाया जाता है?

बीसीए कोर्स में Computer, Software, Programming आदि विषयों को पढ़ाया जाता है।

बीसीए करने से क्या फायदा होता है?

बीसीए कोर्स करने से कंप्यूटर के क्षेत्र में नौकरी मिलने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं।

बीसीए में कौन कौन से सब्जेक्ट होते हैं?

बीसीए कोर्स का सिलेबस 6 सेमेस्टर में विभाजित होता है। इन सेमेस्टर में विद्यार्थी को Computer, Hardware, Software, Programming, Cloud Computing, Networking, Database Management System, Business Intelligence, Multimedia, Computer Languages आदि विषय पढ़ाये जाते हैं।

बीसीए कोर्स की फीस कितनी होती है?

बीसीए कोर्स Fees in Govt College: लगभग रु. 10,000/- प्रति सेमेस्टर
बीसीए कोर्स Fees in Private College: रु. 25,000/- से 50,000/- प्रति सेमेस्टर

बीसीए में कितने सब्जेक्ट होते हैं?

बीसीए कोर्स 3 सालों का होता है जिसमें 6 सेमेस्टर होते हैं। इनमें कुल मिलाकर 50 के करीब सब्जेक्ट्स होते हैं।

निष्कर्ष

साथियों, आशा है कि आपको हमारा यह पोस्ट ‘BCA Course Details in Hindi- BCA Full form in Hindi‘ अच्छा लगा होगा। पोस्ट में हमें बीसीए कोर्स से सम्बंधित सभी तरह की जानकारी शामिल करने की कोशिश की है। इसके अतरिक्त भी यदि आपको बीसीए कोर्स से जुड़ी अन्य कोई इनफार्मेशन चाहिए तो हमें ज़रूर बताएं, हम उस जानकारी को आप तक ज़रूर पहुंचाएंगे।

Sharing Is Caring:

Leave a Comment