CMA Course Details in Hindi- CMA Full Form in Hindi

CMA Course details in Hindi- CMA Full form in Hindi: हर एक स्टूडेंट का लक्ष्य होता है कि वह पढ़ाई करने के बाद एक अच्छा कैरियर बनाए। आज का लेख उन लोगों के लिए है जो फाइनेंस मैनेजमेंट अथवा मैनेजमेंट एकाउंटिंग के क्षेत्र में अपना कैरियर बनाने की सोच रहे हैं। आज के लेख में हम CMA Course in India के बारे में पूरी जानकारी देने वाले हैं। 12वीं करने के बाद सीएमए कोर्स के माध्यम से स्टूडेंट एक अच्छा कैरियर बना सकते हैं। इस कोर्स की सबसे ख़ास बात यह है कि इसे कम्पलीट करने के बाद आप निश्चित तौर पर नौकरी प्राप्त कर पाएंगे।

लेख में आपको सीएमए कोर्स से जुड़ी पूरी जानकारी मिलने वाली है। जैसे सीएमए Kya Hai, सीएमए Kya Hota Hai, CMA Full Form, सीएमए कोर्स क्या है, सीएमए कोर्स के फायदे, कोर्स कैसे करें, सीएमए कोर्स की फ़ीस क्या है, इत्यादि। 12 वीं के बाद जो स्टूडेंट फाइनेंस मैनेजमेंट क्षेत्र में कैरियर बनाना चाहते हैं उनके लिए सीएमए कोर्स को जानना बहुत जरूरी होता है। इसलिए आइए विस्तार से जानते हैं CMA Course details Hindi के बारे में।

cma-course-details-in-hindi-cma-course-full-form-in-hindi
Office presentation photo created by DCStudio – www.freepik.com
Contents hide

What is CMA Course Details in Hindi- CMA Kya Hota Hai?

सीएमए मैनेजमेंट क्षेत्र से जुड़ा एक अहम कोर्स है और इसके अलग अलग भाग होते हैं। यह कोर्स एक प्रोफेशनल डिग्री कोर्स है। सीएमए कोर्स के दौरान स्टूडेंट को मैनेजमेंट और फाइनेंस मैनेजमेंट के विषयों पर पढ़ाया और प्रशिक्षण दिया जाता है। इस कोर्स को पूरा करने के लिए 3 से 4 साल का समय लगता है।

आपको बता दें कि सीएमए कोर्स केवल एक देश का ही नहीं बल्कि यह एक विश्व स्तरीय कोर्स है। भारत में यह कोर्स “इंस्टीट्यूट ऑफ कॉस्ट अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया” के अंतर्गत संचालित किया जाता है। इस कोर्स के माध्यम से हर साल काफी तादात में स्टूडेंट, कॉस्ट मैनेजमेंट एवं फाइनेंस मैनेजमेंट के क्षेत्र में अच्छे कैरियर की शुरुआत कर रहे हैं।

CMA Full Form in Hindi- CMA Kya Hai

CMA Course Full Form: सीएमए का फुलफॉर्म, Cost & Management Accountant होता है। कॉस्ट मैनेजमेंट अकाउंट यानि सीएमए को हिंदी में लागत प्रबंधन लेखाकार कहा जाता है।

मैनेजमेंट कोर्स में कई सारे भाग होते हैं। अलग अलग क्षेत्रों में अलग अलग विषयों पर मैनेजमेंट की जानकारी प्राप्त करनी पड़ती है। जिनके फुलफॉर्म भी अलग अलग होते हैं। जैसे

  • बैंकिंग क्षेत्र के सीएमए का फुलफॉर्म Credit Monitoring Analysis होता है।
  • केमिस्ट्री के सीएमए का फुलफॉर्म Calcium Magnesium Acetate होता है।
  • फाइनेंस क्षेत्र के सीएमए का फुल फॉर्म, Certified Management Accountant होता है। इत्यादि।

ये भी पढ़ें:

CMA Course Duration after 12th in Hindi (सीएमए कोर्स की अवधि क्या है)

सीएमए कोर्स को पूरा करने के लिए स्टूडेंट या कैंडिडेट को 3 से 4 साल का समय लगता है। सीएमए कोर्स को तीन भागों में विभाजित किया गया है।

  • सीएमए फाउंडेशन
  • सीएमए इंटरमीडिएट
  • सीएमए फाइनल

भारत में यह कोर्स लगभग 3 साल में पूरा किया जाता है। इसमें सीएमए फाउंडेशन कोर्स में 8 महीने का समय लगता है, जिसके बाद इंटरमीडिएट कोर्स में 10 महीने एवं सीएमए फाइनल कोर्स में 18 महीने का समय लगता है। सीएमए कोर्स पूरा करने के बाद ही स्टूडेंट को एक कंप्लीट सीएमए कोर्स की डिग्री दी जाती है।

CMA Course Skills Details (सीएमए कोर्स में क्या सिखाया जाता है)

cma-course-details-in-hindi-cma-course-full-form-in-hindi-cma-kya-hai
Image by Gerd Altmann from Pixabay

सीएमए कोर्स के दौरान सिखाई जाने वाली स्किल के प्रमुख नाम नीचे दिए गए हैं

  • Expertise in Financial Accounting
  • Strategic Management
  • External Financial Reporting
  • Internal Controls
  • Performance Management
  • Cost Management
  • Expertise in Management Accounting
  • Profitability Analysis
  • Planning and Budgeting
  • Risk Management, etc.

CMA Course Eligibility Details in Hindi (सीएमए कोर्स के लिए योग्यता)

सीएमए कोर्स पात्रता क्या है: सीएमए कोर्स में प्रवेश करने के लिए कुछ योग्यताओं का होना आवश्यक है जिनका विवरण नीचे दिया गया है।

  • सीएमए कोर्स में एडमिशन लेने के लिए स्टूडेंट 10 वीं कक्षा के बाद ही ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं।
  • रजिस्ट्रेशन के बाद परीक्षा में शामिल होने के लिए स्टूडेंट को 12 वीं पास करना पड़ता है।
  • स्टूडेंट को पहले फाउंडेशन कोर्स को पूरा करना पड़ता है उसके बाद ही वह इंटरमीडिएट के योग्य माना जाता है।
  • अगर किसी विद्यार्थी ने ग्रेजुएशन पास कर लिया है तो वह सीधे ही, सीएमए इंटरमीडिएट कोर्स में प्रवेश ले सकते हैं।
  • ग्रेजुएशन में किसी भी विषय पर डिग्री प्राप्त होनी चाहिए।
  • सीएमए इंटरमीडिएट परीक्षा में सफल होने के बाद ही स्टूडेंट को सीएमए फाइनल कोर्स के योग्य माना जाता है।
  • इस कोर्स के लिए कोई उम्र की सीमा नहीं रखी गई है।
  • 12 वीं के बाद किसी भी उम्र के स्टूडेंट या कैंडिडेट सीएमए कोर्स कर सकते हैं।

How to apply for CMA Course in Hindi (सीएमए कोर्स के लिए आवेदन कैसे दें)

स्टूडेंट को 12 वीं के बाद सीएमए कोर्स में दाखिला लेने के लिए ऑनलाइन आवेदन देना पड़ता है, जिसकी विधि एवं नियम नीचे विस्तार से दिए गए हैं। इसकी मदद से स्टूडेंट या कैंडिडेट आसानी से सीएमए कोर्स में आवेदन दे पाएंगे।

  • ऑनलाइन आवेदन के स्टूडेंट को इंस्टीट्यूट ऑफ कॉस्ट अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया के द्वारा जारी ऑफिसियल वेबसाइट पर जाना पड़ता है।
  • ऑफिशियल वेबसाइट में जाने के बाद आपको कोर्स के तीनों भाग नजर आएंगे।
  • जिस कोर्स को स्टूडेंट करना चाहते हैं उसके नीचे अप्लाई कोर्स पर क्लिक करें।
  • उसके बाद अपनी आवश्यक जानकारियां भरने के बाद सेव एंड कंटिन्यू पर क्लिक करें।
  • उस ऑफिशियल वेबसाइट में मांगे गए डॉक्यूमेंट को सावधानीपूर्वक अपलोड करें।
  • इसके बाद ऑनलाइन फीस भुगतान की प्रक्रिया पूरी करें।
  • ये सब करने के बाद ही इस कोर्स के आवेदन प्रक्रिया पूरी होगी।

सीएमए कोर्स के लिए आवश्यक डॉक्यूमेंट क्या है? (Document for CMA Course Admission)

कोर्स के लिए आवश्यक डॉक्यूमेंट निम्न प्रकार है:

  • 10 वीं कक्षा की मार्कशीट
  • 12 वीं कक्षा की मार्कशीट
  • नमूने के तौर पर स्टूडेंट का हस्ताक्षर
  • स्टूडेंट की पासपोर्ट साइज फोटो

अगर आप सीएमए इंटरमीडिएट कोर्स के लिए आवेदन दे रहें हैं तो आपको सीएमए फाउंडेशन कोर्स मार्कशीट और स्नातक डिग्री की मार्कशीट देनी होती है। जिसके बाद ही आप कोर्स में दाखिल होने के योग्य होते हैं।

CMA Course Fees in India – details in Hindi

जैसा कि आपने उपर पढ़ा कि सीएमए कोर्स में ऑनलाइन आवेदन देकर ही एडमिशन लिया जा सकता है। इस स्थिति में कोर्स की फीस भी आपको ऑनलाइन देनी पड़ सकती है या ऑफलाइन जाकर भी आप कोर्स के फीस भुगतान कर सकते हैं। सीएमए के तीन अलग अलग भागों के कोर्स के लिए अलग अलग फीस देनी होती है।

पहले सीएमए फाउंडेशन कोर्स के लिए स्टूडेंट या कैंडिडेट को ₹6000 तक की फीस लग सकती है। उसके बाद दूसरे भाग यानि सीएमए इंटरमीडिएट कोर्स के लिए स्टूडेंट को ₹23100 की फीस लगती है। और अंत में सीएमए फाइनल कोर्स के लिए स्टूडेंट से ₹25000 तक की राशि ली जाती है। फीस एवं अन्य किसी जानकारी प्राप्त करने हेतु स्टूडेंट, “इंस्टीट्यूट आफ कॉस्ट अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया” की ऑफिसियल वेबसाइट पर जा सकते हैं।

ये भी पढ़ें:

Career Scope After CMA Course (सीएमए कोर्स के बाद कैरियर विकल्प क्या हैं)

cma-course-details-in-hindi-cma-course-full-form-in-hindi-cma-kya-hai-cma-kya-hota-hai
Photo by Marily Torres

सीएमए कोर्स को पूरा करने के बाद स्टूडेंट के पास कई सारे कैरियर विकल्प होते हैं। इस कोर्स के माध्यम से स्टूडेंट को मैनेजमेंट के क्षेत्र से संबंधित सारी जानकारी मिलती है। कोर्स पूरा करते ही स्टूडेंट को जॉब के अवसर मिलने लगते हैं और अच्छे वेतन वाले पद दिए जाते हैं।

इस कोर्स को करने के बाद सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि स्टूडेंट, बाहर  के देशों में भी मैनेजमेंट के क्षेत्र में काम करने में सक्षम होते हैं। इसके अलावा सीएमए डिग्री धारक को गवर्नमेंट और प्राइवेट दोनों सेक्टर में नौकरी के अवसर दिए जाते हैं।

अगर स्टूडेंट जॉब नहीं करना चाहते, तब भी उनके पास कई विकल्प होते हैं जिनमें काम करके भी एक अच्छा कैरियर बनाया जा सकता है। जैसे स्टूडेंट अपनी खुद का बिजनस स्टार्टअप कर सकते हैं। इस कोर्स के बाद मिलने वाली नौकरी और कार्यों के बारे में आगे विस्तार से चर्चा की गई है।

Job After CMA Course in Hindi (सीएमए कोर्स पूरा करने के बाद जॉब के अवसर)

स्टूडेंट या कैंडिडेट सीएमए प्रोफेशनल कोर्स को पूरा करने के बाद सिविल सर्विस के क्षेत्र में भी जा सकते हैं या खुद का बिजनस स्टार्टअप करके मालिक बन सकते हैं। इस कोर्स को करने के बाद मिलने वाली जॉब में काफ़ी अच्छा वेतन दिया जाता है,  जिससे कैंडिडेट अपना कैरियर अच्छे से बना सके। सीएमए कोर्स के बाद मिलने वाली नौकरी या कार्य के कुछ उदाहरणस्वरूप पदों के नाम नीचे दिए गए हैं।

  • फाइनेंशियल एनालिस्ट
  • फाइनेंस मैनेजर
  • कॉस्ट अकाउंटेंट
  • फाइनेंशियल कंट्रोलर
  • इंटरनल ऑडिटर
  • चीफ फाइनेंशियल ऑफिसर
  • सर्टिफाइड मैनेजमेंट अकाउंटेंट
  • फाइनेंशियल रिस्क मैनेजर, इत्यादि।

Salary After CMA Course Hindi (सीएमए कोर्स के बाद सैलरी कितनी मिलती है)

CMA Salary in India: मैनेजमेंट का क्षेत्र काफी बड़ा होता है जिसमें कई प्रकार के काम को करने के लिए कैंडिडेट को अवसर प्रदान किए जाते हैं। इसके कुछ क्षेत्रों में सीएमए कोर्स के डिग्री धारकों को ज्यादा महत्व दिया जाता है। इस फील्ड में भारत के अंदर जितने भी पदों में नौकरी दी जाती है उनमें औसत अनुसार लगभग 3 लाख रुपए से लेकर 20 लाख रुपए तक प्रति वर्ष का पैकेज मिल सकता है। इस क्षेत्र में कैंडिडेट के अनुभव और काम की खूबसूरती देखकर सैलरी में वृद्धि होती है।

यानि कुल मिलाकर CMA Course 12 वीं के बाद एक अच्छा कैरियर विकल्प माना जा सकता है।  इसलिए आप निश्चित रूप से इस कोर्स को अपने अच्छे कैरियर के रूप में चुन सकते हैं।

Frequently Asked Questions (FAQs)

CMA कितने साल का कोर्स है?

सीएमए कोर्स को पूरा करने के लिए 3 से 4 साल का समय लगता है। जिसके बाद स्टूडेंट, मैनेजमेंट के सारे विषयों पर परिपक्व हो जाता है।

CMA कोर्स के बाद सैलरी कितनी मिलती है?

सीएमए कोर्स के बाद मिलने वाली नौकरी में लगभग 3 लाख रुपए से लेकर 20 लाख रुपए तक प्रति वर्ष का पैकेज मिल सकता है। अनुभव के साथ सैलरी में बढ़ोत्तरी होती रहती है।

CMA का फुलफॉर्म क्या है?

सीएमए का फुलफॉर्म Cost Management Accountant होता है।

सीएमए में कितने एग्जाम होते हैं?

सीएमए में एडमिशन लेने के लिए वर्ष में दो बार एग्जाम कराये जाते हैं।

सीएमए परीक्षा क्या है?

यदि आप 12वीं पास हैं और फाइनेंसियल मैनेजमेंट अथवा मैनेजमेंट एकाउंटिंग के क्षेत्र में अपना कैरियर बनाना चाहते हैं तो आपको सीएमए Exam देना होगा।

क्या मैं बीकॉम के बाद सीएमए कर सकता हूं?

वैसे तो आप 12वीं के बाद से ही सीएमए कोर्स कर सकते हैं, पर यदि आप बी कॉम कर चुके हैं तब भी आप इस कोर्स को कर सकते हैं।

निष्कर्ष

दोस्तों, CMA Course details in Hindi – CMA Kya Hota Hai, CMA Full Form in Hindi पोस्ट आपको कैसा लगा? इस पोस्ट में हमने हर आवश्यक जानकारी देने की कोशिश की है। पर फिर भी अगर आपने मन में इस कोर्स से सम्बंधित अन्य किसी जानकारी की आवश्यकता हो तो हमें कमेंट करके ज़रूर बताएं।

Sharing Is Caring:

Leave a Comment