[Company Secretary] CS Course Details in Hindi after 12th- योग्यता, फीस, ड्यूरेशन,

CS Course Details in Hindi, CS Full Form: क्या आपको पता है कि किसी भी कंपनी में सेक्रेटरी पद यानि सचिव पद प्राप्त करना एक बहुत ही अच्छा कैरियर विकल्प माना जाता है। किसी भी कंपनी में सचिव पद की जॉब पाने के लिए आपको एक खास कोर्स करना पड़ता है, जिसे CS Course कहते हैं। जी हां, सी एस कोर्स के माध्यम से आप किसी भी कंपनी में सचिव यानि सेक्रेटरी पद में जॉब हासिल कर सकते हैं। इस लेख में इसी कोर्स के बारे में विस्तार से जानकारी दी गई है।

लेख में कोर्स से संबंधित नीचे दिए गए बिंदुओं पर गहरी चर्चा की गई है।

  • सी एस कोर्स क्या होता है
  • CS का फुल फॉर्म क्या है
  • इस कोर्स के लिए योग्यता क्या है
  • कोर्स में एडमिशन कैसे लें
  • कोर्स की फीस कितनी होती है
  • CS कोर्स का सिलेबस क्या है
  • कोर्स के बाद कैरियर विकल्प क्या हैं
  • कोर्स में जॉब विकल्प क्या हैं
  • सैलरी कितनी मिलती है

इस लेख में आपको इन बिंदुओं के अलावा भी कई सारी महत्वपूर्ण जानकारी मिलने वाली है, ताकि आप इस लेख को पढ़कर CS कोर्स के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त कर सकें। तो आइए जानते हैं what is Company Secretary Course Details in Hindi.

what-is-company-secretary-cs-course-details-in-hindi-after-12th-fees-duration
Image Created at Canva

CS Course Kya Hota Hai- CS Full Form in Hindi

CS Course Full Form in Hindi: सीएस का फुल फॉर्म Company Secretary होता है। यह एक खास कोर्स होता है जिसके बारे में हम आगे विस्तार से जानने वाले हैं।

कंपनी सेक्रेटरी को हिंदी में कंपनी सचिव कहा जाता है। यह एक सम्मानजनक पद होता है। वर्तमान समय में इस पद में  लगभग हर कोई नौकरी पाना चाहता है। आप भी इस पद में जॉब करके एक अच्छे भविष्य की नीव रख सकते हैं।

ये भी पढ़ें:

What is [Company Secretary] CS Course Details in Hindi

सीएस कोर्स किसी भी कंपनी के सचिव से संबंधित कोर्स है। यह कोर्स एक प्रोफेशनल कोर्स के तौर पर किया जाता है। सीएस कोर्स करने के लिए 12 वीं पास होना अनिवार्य है। इस कोर्स में स्टूडेंट को कंपनी के लिए कानूनी तरीके से सही निर्णय लेना, कंपनी के हित में सही सलाह देना एवं अन्य महत्वपूर्ण जिम्मेदारियों से संबंधित शिक्षा एवं प्रशिक्षण दिया जाता है।

भारत में, भारतीय कंपनी सचिव संस्थान (ICSI) कंपनी सचिव अधिनियम 1980 के तहत सीएस कोर्स को पूरा कराया जाता है। यह कोर्स मुख्य रूप से तीन भागों में विभाजित किया गया है जो इस प्रकार है:

  • सीएस फाऊंडेशन प्रोग्राम
  • सीएस एग्जीक्यूटिव प्रोग्राम
  • सीएस प्रोफेशनल प्रोग्राम

ऊपर दिए गए भागों में प्रवेश करने के लिए अलग अलग योग्यता की जरूरत होती है। इन तीनों भागों की अवधि भी अलग अलग होती है। जिसके बारे में हम आगे विस्तार से चर्चा करने वाले हैं।

CS Course Eligibility Details in Hindi | सीएस कोर्स के लिए योग्यता

जैसे हम पहले ही चर्चा कर चुके हैं कि CS कोर्स के तीन अलग अलग भाग होते हैं। इन तीनों भागों में प्रवेश के लिए अलग अलग नियम एवं शर्तें होती है। सीएस कोर्स के लिए योग्यता एवं शर्तों का विवरण नीचे दिया गया है:

CS Foundation Program Eligibility Details in Hindi

सीएस फाउंडेशन प्रोग्राम के लिए सबसे कम योग्यता की जरूरत होती है। इसमें प्रवेश करने के लिए स्टूडेंट को 12वीं पास करना आवश्यक होता है। इस कोर्स के लिए 12वीं कक्षा में किसी भी विषय में पास किया जा सकता है।

स्टूडेंट को 12वीं कक्षा में कम से कम 45% अंक प्राप्त होने चाहिए। आयु की बात करें तो स्टूडेंट की उम्र कम से कम 17 वर्ष होनी चाहिए, जिसके बाद ही स्टूडेंट सीएस कोर्स करने का पात्र हो जाता है।

CS Executive Program Eligibility Details Hindi

सीएस एग्जीक्यूटिव प्रोग्राम में प्रवेश करने के लिए नियम एवं शर्तें इस प्रकार से हैं:

  • सीएस एग्जीक्यूटिव प्रोग्राम में प्रवेश करने के लिए स्टूडेंट को सीएस फाऊंडेशन प्रोग्राम की डिग्री प्राप्त करना जरूरी होता है।
  • अगर स्टूडेंट,  स्नातक कर चुका है तो वह इस सीएस एग्जीक्यूटिव प्रोग्राम के योग्य माना जाएगा।
  • इसमें कम से कम 50% प्राप्तांकों की सीमा रखी गई है।

सीएस एग्जीक्यूटिव प्रोग्राम में प्रवेश करने की योग्यताओं को जानने के बाद अब हम सीएस प्रोफेशनल प्रोग्राम कोर्स की योग्यताओं के बारे में जानेंगे।

CS Professional Program Eligibility Details

यह कोर्स, सीएस कोर्स का अंतिम भाग होता है। इस भाग में प्रवेश करने के लिए स्टूडेंट को सीएस फाउंडेशन एवं सीएस एग्जीक्यूटिव दोनों को पास करना ज़रूरी है। इन्हें पास करने के बाद ही छात्रों को सीएस प्रोफेशनल प्रोग्राम में प्रवेश मिल पाता है।

CS Course Duration in Hindi | सीएस कोर्स की अवधि

ऊपर हमने पढ़ा कि सीएस कोर्स के 3 भाग होते हैं जिनकी अलग-अलग योग्यताएं होती है। इस कोर्स के हर एक भाग को पूरा करने के लिए 1 वर्ष का समय लगता है। तीनों भागों को पूरा करने में 3 वर्ष का समय लगता है।

सीएस कोर्स के दौरान या कोर्स के बाद ईटीपी ट्रेनिंग तथा प्रैक्टिकल ट्रेनिंग करवाई जाती है। जिसकी अवधि लगभग 2 साल की होती है। अगर स्टूडेंट सीएस प्रोफेशनल प्रोग्राम को पूरा करने के बाद यह ट्रेनिंग करें तो उन्हें सीएस कोर्स को पूरा करने में लगभग 5 वर्ष का समय लग सकता है।

जबकि स्टूडेंट अगर सीएस एग्जीक्यूटिव प्रोग्राम को पूरा करने के बाद ही प्रैक्टिकल ट्रेनिंग एवं ईटीपी ट्रेनिंग शुरू कर दें तो उन्हें सीएस कोर्स पूरा करने में लगभग 4 साल का समय लगता है। यानी कुल मिलाकर सीएस कोर्स की अवधि 4 से 5 साल की होती है।

CS Course Fees in Hindi | सीएस कोर्स की फीस

आपको बता दें कि सीएस कोर्स को ICSI के द्वारा संचालित किया जाता है। उनके द्वारा ही कोर्स के लिए पाठ्यक्रम, स्टडी मैटेरियल, एवं परीक्षा का आयोजन किया जाता है। इस कोर्स के लिए लिए छात्रों को कुछ फीस जमा करनी पड़ती है।

सीएस कोर्स के तीनों भागों के लिए अलग-अलग फीस होती है। सीएस फाऊंडेशन कोर्स के लिए लगभग ₹5,000 फीस होती है, और सीएस एग्जीक्यूटिव कोर्स के लिए लगभग ₹9,000 के आस पास की फीस होती है। जबकि सीएस प्रोफेशनल कोर्स के लिए लगभग ₹14,000 की फीस हो सकती है।

सीएस कोर्स में ICSI के द्वारा स्टडी मैटेरियल और सिलेबस आदि की जानकारी स्टूडेंट को दे दी जाती है। जिसके बाद स्टूडेंट इस कोर्स की तैयारी अपने स्तर पर करते हैं। इसके लिए उन्हें किसी कोचिंग सेंटर या प्राइवेट शिक्षण संस्थान में जाना पड़ता है जिसमें अलग से फीस लगती है।

प्राइवेट संस्थानों की फीस बता पाना मुश्किल है। लेकिन औसत अनुसार प्राइवेट संस्थानों में सीएस कोर्स के पाठ्यक्रम को पूरा करने में लगभग ₹30,000 से लेकर ₹3,00,000 तक की फीस हो सकती है।

ये भी पढ़ें:

CS Course Syllabus and Subjects in Hindi | सीएस कोर्स का सिलेबस

सीएस कोर्स के तीनों भागों का अलग-अलग सिलेबस होता है जिनके हिसाब से पूरे कोर्स का पाठ्यक्रम सेट किया जाता है। इन तीनों कोर्स के भागों के सिलेबस का विवरण नीचे दिया गया है।

सीएस फाऊंडेशन सिलेबस

  • English and Business Communication
  • Financial Accounting
  • Economics and Statistics
  • Elements of Business Law and Management

सीएस एग्जीक्यूटिव सिलेबस

सीएस कोर्स के इस भाग में सिलेबस के दो मॉड्यूल रखे गए हैं जिनका विवरण इस प्रकार है:

मॉड्यूल 1

  • Company Accounts, Cost and Management
  • General and Commercial Law
  • Tax Law
  • Accounting

मॉड्यूल 2

  • Company law
  • Security Laws and Compliances
  • Economic and Labor Laws

सीएस प्रोफेशनल सिलेबस

  • Drafting, Appearance and Pleadings Company Secretarial Practice
  • Corporate Restructuring and Insolvency Financial, Treasury and Forex Management
  • Advanced Tax Law and Practice Strategic Management, Alliances and International Trade
  • Governance Business Ethics and Sustainability Due Diligence and Corporate Compliance Management

Job After CS Course Hindi | सीएस कोर्स के बाद जॉब

सीएस कोर्स को पूरा करने के बाद स्टूडेंट या कैंडिडेट के पास कई सारे जॉब विकल्प होते हैं। इस कोर्स की डिग्री हासिल करने के बाद अलग-अलग कंपनियों में अच्छे पदों में नौकरी के अवसर प्रदान किए जाते हैं। इन कंपनियों में अच्छे कैरियर की संभावनाएं होती है। कुछ प्रमुख जॉब क्षेत्र एवं पदों की जानकारी और नाम नीचे दिए गए हैं।

  • लीगल एडवाइजर
  • कॉरपोरेट प्लानर
  • एडमिनिस्ट्रेटिव असिस्टेंट
  • एडमिनिस्ट्रेटिव सेक्रेट्री
  • कंपनी रजिस्ट्रार
  • कॉर्पोरेट पॉलिसी मेकर
  • कंपनी सेक्रेट्री
  • असिस्टेंट टू द बोर्ड ऑफ डायरेक्टर
  • सेक्रेटरी

CS Course Salary | सीएस कोर्स के बाद सैलरी कितनी होती है

सीएस कोर्स के बाद अलग-अलग जॉब पदों में अलग-अलग प्रकार की सैलरी होती है। बड़ी-बड़ी कंपनियों में अच्छे पदों में काफी ज्यादा सैलरी होती है।

सीएस कोर्स करने के बाद कंपनी सचिव को भारत में औसत अनुसार लगभग ₹20,000 से लेकर ₹40,000 तक प्रति माह का वेतन मिल सकता है। यह अमाउंट एक फ्रेशर कैंडिडेट के लिए है। अनुभव बढ़ने के साथ-साथ वेतन में भी वृद्धि होती है।

अच्छा अनुभव प्राप्त करने के बाद औसत अनुसार लगभग ₹30,000 से लेकर ₹70,000 तक प्रति माह का वेतन दिया जाता है। आपको बता दें कि कुछ कंपनियों में ऐसे पद भी होते हैं जिनमें शुरुआत से ही ₹1,00,000 प्रति महीना का वेतन दिया जाता है। इस पद में अनुभव प्राप्त करने के बाद कैंडिडेट को लगभग ₹20,00,000 से लेकर ₹24,00,000 तक प्रतिवर्ष का पैकेज दिया जाता है।

कुल मिलाकर देखें तो सीएस कोर्स एक अच्छा कैरियर विकल्प है। कंपनी के सचिव बनने में रुचि रखने वाले छात्र इस कोर्स को जरूर करें।

ये भी पढ़ें:

निष्कर्ष

दोस्तों, CS Course Details in Hindi – CS Course Full Form पर लिखा गया यह लेख आपको कैसा लगा? इस लेख के माध्यम से हमने आपको CS Course Kaise Kare इस बारे में जानकारी दी है। अगर आपको कोर्स से सम्बंधित अधिक जानकारी चाहिए तो हमें ज़रूर बताएं।

Frequently Asked Questions (FAQs)

CS Course Kya Hota Hai?

किसी भी कंपनी में कंपनी सचिव बनने के लिए किये जाने वाले कोर्स को ही सीएस कोर्स कहते हैं।

सीएस कोर्स कितने साल का होता है?

सीएस कोर्स 3 साल का कोर्स होता है। इस दौरान, कोर्स के लिए कुछ ट्रेनिंग भी करनी पड़ती है। कुल मिलाकर इस कोर्स को पूरा करने में 4 से 5 साल का समय लग सकता है।

सीएस का फुल फॉर्म क्या होता है?

सीएस का फुल फॉर्म कंपनी सेक्रेट्री होता है। इसे हिंदी में कंपनी सचिव कहा जाता है।

सीएस कोर्स में प्रवेश करने के लिए क्या करना पड़ता है?

सीएस कोर्स में प्रवेश करने के लिए स्टूडेंट को सबसे पहले 12वीं कक्षा पास करनी पड़ती है। उसके बाद ही सीएस कोर्स के लिए आवेदन दे सकते हैं।

Sharing Is Caring:

Leave a Comment