BPT Full Form- BPT Course Details in Hindi, Eligibility, College, Duration, Fees

BPT Full Form in Hindi- BPT Course Details in Hindi: आज का पोस्ट खास उन लोगों के लिए है जो मेडिकल फील्ड में अपना कैरियर बनाना चाहते हैं। जी हां आज हम बीपीटी कोर्स के बारे में चर्चा करने वाले हैं। लेख में हम इस कोर्स से संबंधित सारी जानकारी देने वाले हैं जिसे आपको इस कोर्स को करने से पहले पता होना चाहिए।

इस पोस्ट में आपको बीपीटी का Full Form क्या है, बीपीटी Meaning in Medical, बीपीटी Syllabus, बीपीटी Subject, Best बीपीटी College, बीपीटी Course Fees, बीपीटी कोर्स को कैसे करें, आवेदन कैसे करें, बीपीटी के बाद क्या करें, इत्यादि सभी के बारे में विस्तार से जानकारी मिलने वाली है।

bpt-full-form-in-hindi-bpt-course-details-in-hindi
Physiotherapy photo created by freepik – www.freepik.com
Contents hide

What is BPT Course Details in Hindi- BPT Full form in Hindi

(BPT Meaning in Medical): यह कोर्स ख़ास उन छात्र छात्राओं के लिए है जो 12वीं के बाद मेडिकल फील्ड में जाना चाहते हैं। इसके लिए आप बीपीटी कोर्स का चयन कर सकते हैं। इस कोर्स के कई सारे फायदे हैं और जल्दी जॉब भी मिल जाती है, जिसके बारे में हम आगे लेख में चर्चा करेंगें।

बीपीटी का फुलफॉर्म Bachelor Of Physiotherapy (बैचलर ऑफ फिजियोथेरेपी) है। इस कोर्स को 12वीं के बाद ही किया जाता है। अगर हम इस कोर्स के duration की बात करें तो यह कोर्स चार साल का कोर्स होता है जिसमें 8 सेमेस्टर होते हैं।

आज की तारीख में बीपीटी कोर्स करने वाले छात्र छात्राओं को तुरंत ही जॉब के ऑफर आने लगते हैं। फिजियोथेरिपी के डिग्री प्राप्त स्टूडेंट्स के पास हॉस्पिटलों, नर्सिंग होम, फिटनेस सेंटर इत्यादि में जॉब करने के अलावा और भी ऑप्शन होते हैं। अगर वह चाहें तो खुद की क्लीनिक भी शुरू कर सकते हैं।

BPT Course Kaise Kare after 12th- Eligibility and Qualification in Hindi

यह कोर्स आपकी पढ़ाई के विषय में नहीं होता है। इस कोर्स को आपको अलग से करना पड़ता है। जिसके लिए आपको 12th में साइंस लेकर पास करना होता है, यानी आपके विषयों में भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान और जीव विज्ञान होना अनिवार्य है। उसके बाद ही आप बीपीटी कोर्स के लिए आवेदन दे सकते हैं।

आपको बता दें कि BPT Course Full Form in Medical – Bachelor of Physiotherapy होता है। अगर अभी आप स्कूल में हैं या अभिभावक हैं, तो आपकी जानकारी के लिए बता दूं कि Age Limit for BPT Course न्यूनतम 17 साल है। इसका मलतब यह है कि आप 17 वर्ष कम्पलीट होने के बाद ही बीपीटी का कोर्स कर सकते हैं।

ये भी पढ़ें:

बीपीटी में एडमिशन कैसे लें- BPT Course Details in Medical

बीपीटी कोर्स में आप एडमिशन तभी ले सकते है जब आप एंट्रेंस परीक्षा में पास हों। यानी आपको 12th के बाद एंट्रेंस एग्जाम में क्वालीफाई करना होगा। उसके बाद आपका नाम मेरिट लिस्ट में आयेगा, जिसके आधार पर आपको एडमिशन मिलता है। जितने भी बीपीटी कोर्स करवाने वाले गवर्मेंट कॉलेज और यूनिवर्सिटी हैं, सभी में इसी प्रकार से दाखिला मिलता है। एडमिशन के लिए प्रवेश परीक्षा पास करना अनिवार्य है।

BPT Entrance Exam

बी पी टी कोर्स करने के लिए आप डायरेक्ट ही मैनेजमेंट कॉलेजों में एडमिशन ले सकते हैं या सरकारी कॉलेज में आवेदन दे सकते हैं। वैसे तो बहुत कम ही डायरेक्ट एडमिशन मिलती है और ज्यादातर गवर्नमेंट कॉलेज या यूनिवर्सिटी में परीक्षा पास करने के बाद ही एडमिशन मिल पाता है। पूरे भारत में कुछ मुख्य कॉलेजों और विश्वविद्यालयों के नाम नीचे दिए गए हैं जो एंट्रेंस परीक्षा आयोजित करवाते हैं, जिनमें आप आवेदन दे सकते हैं।

  • बिहार कंबाइंड एंट्रेंस कॉम्पिटेटिव एग्जाम
  • आईपी यूनिवर्सिटी बीपीटी एंट्रेंस एग्जाम
  • दिल्ली यूनिवर्सिटी बीपीटी एंट्रेंस एग्जाम
  • बी एच यू बीपीटी एंट्रेंस एग्जाम
  • अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी बीपीटी एग्जाम
  • जामिया मिल्लिया इस्लामिया बी पी टी एंट्रेंस एग्जाम
  • सीएसजेएमयू बीपीटी एंट्रेंस एग्जाम
  • यूपी यूनिवर्सिटी ऑफ मेडिकल साइंस बीपीटी एग्जाम

इन सभी विश्वविद्यालयों के अलावा और भी कई कॉलेज हैं जहां आप बी पी टी के कोर्स के लिए आवेदन दे सकते हैं।

BPT Course Career Scope in Hindi

बी पी टी कोर्स आज की तारीख में काफी ज्यादा डिमांड में है। इस कोर्स की डिग्री हासिल करने के बाद आपको ज्यादा माथा पीटने की जरूरत नहीं होती, तुरंत ही किसी हॉस्पिटल, नर्सिंग होम, क्लीनिक, इत्यादि में जॉब के मौके मिल जाते हैं। वर्तमान में भारत के ज्यादातर बड़े शहरों या छोटे शहरों में भी जगह जगह हॉस्पिटल, हेल्थ सेंटर, क्लीनिक आदि बनते जा रहे हैं और मेडिकल फील्ड में कैरियर का स्कोप भी बढ़ता जा रहा है।

ऐसे में अच्छे ढंग से बैचलर ऑफ फिजियोथेरेपी कोर्स पूरा करने वाले छात्र या छात्राओं के पास अपने कैरियर को बेहतर बनाने के लिए अच्छे मौके हैं । अक्सर देखा गया है कि लगभग हर हॉस्पिटल या मेडिकल फील्ड में बीपीटी डिग्री धारक या फिजियोथेरिपी डॉक्टर की डिमांड ज्यादा रहती है। इस कोर्स को करने के कुछ खास फायदे भी हैं। अगर स्टूडेंट सफलतापूर्वक बीपीटी कोर्स करने के बाद जॉब नहीं करना चाहते हैं तो भी इस कोर्स के जरिए और भी रास्ते खुल जाते हैं जिसमे वह सेटल भी हो सकते हैं।

अगर आप चाहें तो जॉब न करके ख़ुद का ही क्लीनिक चला सकते हैं। कई बीपीटी डिग्री धारक कुछ समय के लिए जॉब करते हैं और अच्छा अनुभव प्राप्त करने के बाद वह खुद की क्लीनिक शुरू कर लेते हैं। इससे उनकी अच्छी इनकम तो होती ही है साथ ही ज्यादा से ज्यादा पेशेंट भी मिल जाते हैं।

बी पी टी कोर्स करने के बाद सरकार द्वारा निकाली गयी vacancy में भी आवेदन दे कर जॉब पा सकते हैं। इसमें गवर्नमेंट सेक्टर के अलावा प्राइवेट सेक्टर में भी काम मिलने के चांस होते हैं। स्पोर्ट, और आर्मी सेक्टर में भी बीपीटी डिग्री धारक की काफी ज्यादा डिमांड होती है। कहने का मतलब यह है कि बीपीटी कोर्स करने के बाद आपको ज्यादा चक्कर काटने की जरूरत नहीं पड़ती, बहुत जल्द ही जॉब के अवसर मिलने लगते हैं।

बीपीटी कोर्स के बाद किन पदों पर जॉब पा सकते हैं?

निम्न कुछ पद हैं जिनमें बीपीटी कोर्स के बाद जॉब मिल सकती है:

  • फिजियोथेरेपिस्ट
  • असिस्टेंट फिजियोथैरेपिस्ट
  • रिसर्च सेक्टर
  • थेरेपी मैनेजर
  • फिटनेस ट्रेनर
  • स्पोर्ट फिजियो रिहैबिलिटेटर
  • ओस्टियोपेथ
  • अक्यूपेंचर फिजियोथेरेपिस्ट
  • पर्सनल फिजियोथेरेपिस्ट

बीपीटी कोर्स करने के बाद जॉब कहां मिलेगी?

bpt-full-form-in-hindi-bpt-course-details
Image By: Unsplash

बीपीटी कोर्स को पूरा करने के बाद आपके पास कई सारे जॉब के ऑप्शन होते हैं। आपको हॉस्पिटल, नर्सिंग होम, क्लीनिक, ट्रामा सेंटर्स, रिहैबिलिटेशन सेंटर्स, फिटनस सेंटर, फिजियोथेरेपी क्लीनिक इत्यादि में जॉब मिल सकती है। आप कहीं भी जॉब का चयन कर सकते हैं। इसके अलावा आप खुद का क्लीनिक भी शुरू कर सकते हैं।

BPT Course Fees in Government College and Private College in Hindi

Physiotherapy Course Fees: यह कोर्स आपके कैरियर को एक दम सही राह दिखाता है, इस लिए इस कोर्स की फीस भी अच्छी होती है। बीपीटी कोर्स की फीस Govt Colleges में लगभग 1 लाख रुपये से ले कर 2 लाख रुपये के आस पास प्रतिवर्ष होती है। सरकारी कॉलेजों में फीस थोड़ी कम होती है और कई राज्यों में जाति प्रमाण पत्र के आधार पर फीस कम कर दी जाती है और स्कॉलरशिप भी मिल जाती है।

वहीं दूसरी ओर बीपीटी कोर्स की फीस Private Colleges में लगभग रु. 5,00,000/- होती है। अगर आप विदेश जाकर बीपीटी का कोर्स करना चाहते हैं तो वहां आपको करीब 30,000 USD फीस देनी पड़ेगी।

ये भी पढ़ें:

Best BPT College in India

हमारे देश में लगभग हर राज्यों में बीपीटी कोर्स करने के कॉलेज मौजूद हैं जिनमें कुछ बेस्ट कॉलेजों में दिल्ली यूनिवर्सिटी, आईपी यूनिवर्सिटी, बीएचयू यूनिवर्सिटी, जामिया मिलिया इस्लामिया, अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी, यूपी यूनिवर्सिटी, सीएसजेएमयू, पंजाब यूनिवर्सिटी, बुंदेलखंड यूनिवर्सिटी, मद्रास मेडिकल कॉलेज इत्यादि के नाम शामिल हैं।

BPT Course Syllabus and Duration in Hindi

बीपीटी कोर्स पूरा होने में चार साल का समय लगता है। इन चार सालों में प्रत्येक साल अलग अलग सिलेबस को पढ़ाया जाता है जो कुछ इस प्रकार से है:

पहला वर्ष

  • Anatomy, 
  • Biomechanics, 
  • Physiology, 
  • Psychology, 
  • Biochemistry, 
  • Sociology, 
  • Basic Nursing, 
  • Orientation To Physiotherapy, 
  • English

दूसरा वर्ष

  • Pathology, 
  • Exercise Therapy, 
  • Microbiology, 
  • Electrotherapy, 
  • Pharmacology, 
  • Research Methodology and Biostatistics, 
  • First Aid and CPR, 
  • Introduction To Treatment, 
  • Clinical Observation Posting

तीसरा वर्ष

  • General Medicine, 
  • Orthopedics and Sports Physiotherapy, 
  • General Surgery, 
  • Supervised Rotary Clinical Training, 
  • Orthopedics and Traumatology, 
  • Allied Therapies

चौथा वर्ष

  • Neurology and Neurosurgery, 
  • Supervised Rotary Clinical Training, 
  • Community Medicine, 
  • Ethics Administration and Supervision, 
  • Neuro Physiology, 
  • Evidence Based Physiotherapy and Practice, 
  • Community Based Rehabilitation, 
  • Research Project

BPT Course Subjects (बीपीटी के विषय)

इस कोर्स में कुछ खास विषयों को पढ़ाया जाता है जिनमें Physiology,  Anatomy,  Pathology and Microbiology,  Orthopedics,  Pharmacology,  General Surgery,  General Medicine,  Neurology जैसे विषय शामिल हैं।

बीपीटी कोर्स के बाद जॉब- Jobs after BPT Course

bpt-full-form-in-medical-bpt-course-details-in-hindi
Photo by Ryutaro Tsukata

इस कोर्स को करने के बाद आपको गवर्नमेंट की तरफ से फैक्ट्री, डिफेंस, रेलवे, हॉस्पिटल, कम्युनिटी सेंटर, स्पोर्ट क्लब, आर्मी कैंप जैसे विभिन्न सेक्टरों में जॉब पाने की संभावना रहती है।

BPT Salary- कोर्स के बाद कितनी सैलरी मिलती है?

आप मेडिकल की फील्ड बैचलर ऑफ़ फिजियोथेरेपी में अच्छी सैलरी के साथ Settle हो सकते हैं। बीपीटी कोर्स की डिग्री हासिल करने के बाद जो जॉब मिलती है उसमे आपको 40 से 55 हज़ार तक की तनख्वाह एक महीने में मिल सकती है। इस फील्ड में अक्सर आपके अनुभव के हिसाब से पैसे मिलते हैं । शुरुवात में 20 से 25 हज़ार रुपये प्रति माह मिलते हैं और जैसे जैसे आपका अनुभव बढ़ता जाएगा, आपके वेतन में भी इज़ाफा होता जायेगा।

ये भी पढ़ें:

Frequently Asked Questions

फिजियोथैरेपिस्ट बनने के लिए क्या करना पड़ता है?

फिजियोथेरेपिस्ट बनने के लिए किसी भी छात्र या छात्रा को सबसे पहले साइंस लेकर 12वीं पास करना होगा, जिसमें भौतिक, रसायन और जीवविज्ञान ये तीनों विषय का होना अनिवार्य है। उसके बाद छात्र को बीपीटी या डीपीटी के कोर्स को पूरा करना होगा। उसके बाद ही आपको फिजियोथेरेपिस्ट की डिग्री मिलती है।

BPT के बाद और कौन से कोर्स है मेडिकल फील्ड में?

बी पी टी कोर्स करने के बाद अगर आप चाहें तो MTP (मास्टर ऑफ फिजियोथेरेपी) कर सकते है। जिसमें आपको और भी बेहतर कैरियर के ऑप्शन मिलते हैं। साथ ही आपको और भी ज्यादा अच्छे वेतन वाली जॉब के मौके मिलते है।

फिजियोथेरेपिस्ट के कार्य क्या हैं?

फिजियोथेरेपिस्ट को हिंदी में भौतिक चिकित्सक के नाम से भी जाना जाता है। इसमें रोगियों का बिना किसी दवाओं के सिर्फ व्यायाम, पुनर्वास तकनीक, शारीरिक गतिविधि, मासाज इत्यादि के उपयोग से उपचार किया जाता है।

क्या BPT और MBBS एक समान हैं?

डिग्री के हिसाब से दोनों कोर्स ही बैचलर डिग्री कोर्स हैं और यह दोनों कोर्स 12वीं के बाद ही कर सकते हैं। दोनों मेडिकल फील्ड के कोर्स है और इन दोनों कोर्स को करने से आप डॉक्टर बन सकते हैं, पर दोनों के कार्य अलग अलग तरीके के होते है। बीपीटी में जहां बिना किसी टैबलेट या दवाई के मरीज़ को स्वस्थ बनाने की कोशिश रहती है, MBBS में मरीज को स्वस्थ बनाने में हमेशा दवाइयों का प्रयोग होता है।

क्या हम BPT करने के बाद डॉक्टर कहलाते हैं?

जी हां, बिलकुल यह कोर्स करने के बाद आप अपने नाम के आगे डॉक्टर या फिजियोथेरेपिस्ट जैसे शब्द लगा सकते हैं। पर यह पीएचडी वाले डॉक्टर से अलग होता है जिसके साथ हम इसकी तुलना नहीं कर सकते।

BPT का फुलफॉर्म क्या है- What is full form of BPT?

BPT Ka Full Form, ‘Bachelor Of Physiotherapy’ (बैचलर ऑफ फिजियोथेरेपी) है।

बीपीटी में एडमिशन कैसे होता है?

बीपीटी में एडमिशन लेने के लिए कैंडिडेट्स को बीपीटी Entrance Exam पास करना पड़ता है। एग्जाम पास करने के बाद मेरिट लिस्ट बनाई जाती है और यदि कैंडिडेट का नाम इस मेरिट लिस्ट में आ जाता है तो उसका एडमिशन बीपीटी कोर्स के लिए कर लिया जाता है।

फिजियोथेरेपी का कोर्स कितने साल का है?

फिजियोथेरेपी का कोर्स 4 वर्षों का होता है। कोर्स कम्पलीट करने के बाद 6 माह की इंटर्नशिप भी करनी होती है।

बीपीटी के बाद कौन सा कोर्स सबसे अच्छा है?

यदि आपने बीपीटी कोर्स कम्पलीट कर लिया है और आप उच्च शिक्षा के लिए प्रयास करना चाहते हैं तो तो आपके लिए MPT Course (Master of Physiotherapy) सबसे बेहतर विकल्प है।

निष्कर्ष

उम्मीद है यह लेख BPT Course Details in Hindi- BPT Full Form in Medical in Hindi आपको पसंद आया होगा और इस Course के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी मिली होगी। हम यह भी आशा करते हैं  कि इस लेख के माध्यम से आपके मन में इस कोर्स को लेकर जो डाउट था वह खत्म हुआ होगा।

इसके अलावा भी अगर आपके मन में इस कोर्स से जुड़े कोई भी सवाल हों तो हमें टिप्पणी करके ज़रूर बताएं। हम आपके सवालों के जवाब शीघ्र देने की कोशिश करेंगे। मिलते हैं किसी और महत्वपूर्ण जानकारी के साथ। धन्यवाद!!!

ये भी पढ़ें:

Sharing Is Caring:

Leave a Comment