BAMS Full Form in Medical in Hindi: 12वीं के बाद BAMS में करियर कैसे बनायें- Top 20 College

BAMS Full Form in Hindi:12वीं की परीक्षा पास करने के बाद जब भी डॉक्टर की पढ़ाई करने की बात आती है तो अधिकतर लोगों का ध्यान एमबीबीएस की तरफ ही जाता है। परंतु एमबीबीएस की परीक्षा पास करना हर किसी छात्र के बस की बात नहीं होती है। परंतु इसका मतलब यह भी नहीं है कि आप अपना डॉक्टर बनने का सपना ही छोड़ दें। ऐसे अन्य विकल्प भी मौजूद हैं जिनके आधार पर आप डॉक्टर बनने का ख्वाब पूरा कर सकते हैं।

जी हां, दोस्तों! आज के इस महत्वपूर्ण आर्टिकल में हम आपको डॉक्टर बनने की एक ऐसी डिग्री के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे हासिल करने के लिए आपको एमबीबीएस करने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी। परंतु फिर भी आप मेडिकल के क्षेत्र में डॉक्टर बनकर अपनी अहम सेवाएं दे सकेंगे।

दरअसल हम आपको बताएंगे, आयुर्वेदिक डॉक्टर यानी कि BAMS course के बारे में जिसके आधार पर आप 12वीं कक्षा पास करने के उपरांत अपना सुनहरा भविष्य बना सकते हैं। परंतु यदि आप बीएएमएस कोर्स से संबंधित पूरी जानकारी से परिचित नहीं है तो इस आर्टिकल के साथ अंत तक जुड़े रहे।

हमें विश्वास है कि हम आपको 12वीं Ke Baad BAMS me Career Kaise Banaye के लिए सही मार्गदर्शन देने में सफल रहेंगे। साथ ही आप BAMS Full Form in Medical के बारे में भी सम्पूर्ण जानकारी प्राप्त करेंगे।

bams-full-form-in-medical-bams-me-career-kaise-banaye
BAMS Full Form

BAMS Full Form in Medical in Hindi

दोस्तों, अगर आप बीएएमएस के क्षेत्र में कैरियर बनाने का विचार कर रहे हैं तो आपको सबसे पहले इसके फुल फॉर्म के बारे में जान लेना चाहिए। बीएएमएस, आयुर्वेद की फील्ड का एक प्रोफेशनल टर्म है जिसे अगर हम पूर्ण रूप से Expand करें तो ये बन जाता है – Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery.

BAMS Full Form in Hindi– बैचलर ऑफ़ आयुर्वेद, मेडिसिन एंड सर्जरी

अगर आप BAMS Course Full Form के बारे में जानना चाहते हैं तो आपको बता दें कि इसका फुल फॉर्म भी बैचलर ऑफ़ आयुर्वेद, मेडिसिन एंड सर्जरी ही होता है। इसलिए आप दुविधा में न रहें और इसको Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery ही समझें।

ये भी पढ़ें: MR: MR Full Form, MR Kaise Bane और Top 23 Institutes

BAMS Me Career Kaise Banaye

आयुर्वेद एक प्राचीन चिकित्सा पद्धति है जो पारंपरिक जड़ी बूटियों पर आधारित होती है। मतलब की मनुष्य में पाई जाने वाली सभी प्रकार की बीमारियों का सफल उपचार करने के लिए जड़ी बूटियों से निर्मित दवाओं का प्रयोग किया जाता है। आयुर्वेद शब्द की उत्पत्ति संस्कृत भाषा से मानी जाती है जिसका मतलब है, जीवन का ज्ञान।

ऐसी बहुत सी जटिल बीमारियां हैं जिनका उपचार केवल आयुर्वेद के माध्यम से ही किया जा सकता है। ऐसे में विश्व स्वास्थ्य संगठन भी आयुर्वेद की महत्वता को प्रमाणित कर चुका है। इसी आधार पर वर्तमान समय में आयुर्वेद चिकित्सा संबंधित career भी नई ऊंचाइयों को छू रहा है।

अगर आप भी Ayurvedic Doctor बनना चाहते हैं तो आपके लिए बीएएमएस कोर्स करना बेहतर विकल्प साबित होगा। इस कोर्स को पूर्ण करने के पश्चात आप आयुष डॉक्टर बनकर अच्छा करियर बना सकेंगे। इस आर्टिकल में हम आपको बीएएमएस कोर्स के बारे में हिंदी में पूरी जानकारी विस्तार से उपलब्ध कराएंगे ताकि आप अपना आयुर्वेदिक डॉक्टर बनने का सपना पूरा कर सकें।

बीएएमएस कोर्स क्या होता है?

बीएएमएस एक बैचलर डिग्री आधारित कोर्स होता है जिसके अंतर्गत आयुर्वेदिक चिकित्सा संबंधित शिक्षा दी जाती है। इस कोर्स को करने के बाद आप किसी भी आयुर्वेदिक चिकित्सालय में आयुष डॉक्टर के रूप में कार्य कर सकते हैं। बीएएमएस कोर्स में शारीरिक रचना, शल्य चिकित्सा, विभिन्न रोगों की जांच और निवारण संबंधित शिक्षा दी जाती है। इसके अलावा फार्मोकोलॉजी, नाक, कान, गला, आंख आदि संबंधित चिकित्सा के सिद्धांत की संपूर्ण जानकारी दी जाती है।

ये भी पढ़ें: बैक्टेरियोलोजिस्ट कैसे बनें | How to become Bacteriologist?

Qualifications For BAMS Course (बीएएमएस कोर्स के लिए योग्यता)

बीएएमएस में करियर बनाने के लिए आपको 12वीं कक्षा कम से कम 50% अंकों के साथ पास करनी होगी। इसके अलावा 12वीं कक्षा में फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायोलॉजी की पढ़ाई करना भी जरूरी है। BAMS Course Duration 5 साल और 6 महीने की होती है जिसके अंतर्गत 1 वर्ष की इंटर्नशिप दी जाती है। इसके अलावा बीएएमएस कोर्स में दाखिला लेने हेतु आवेदक की उम्र कम से कम 17 वर्ष होना अनिवार्य है।

बीएएमएस में दाखिला लेने के लिए आप प्रवेश परीक्षा के लिए भी तैयारी कर सकते हैं। BAMS Entrance Exam (बी ए एम एस प्रवेश परीक्षा) के लिए आपके पास निम्नलिखित परीक्षा का विकल्प रहता है :

  • National Institute of Ayurveda Entrance Exam
  • Uttarakhand PG Medical Entrance Exam
  • Kerala State Entrance Exam
  • Common Entrance Exam, Karnataka
  • Ayush Entrance Exam

BAMS Syllabus in Hindi

BAMS 1st year syllabus in Hindi1) बॉडी स्ट्रक्चर (शरीर की संरचना),
2) बॉडी फंक्शन (शरीर क्रिया),
3) संस्कृत भाषा,
4) फंडामेंटल प्रिंसिपल एंड अष्टांग ह्रदय
BAMS 2nd year syllabus in Hindi1) मटेरियल विज़न चरक
2) चरक संहिता – फर्स्ट वॉल्यूम-1
3) केमिस्ट्री और मेडिसिन
4) अगद तंत्र
5) विधि मेडिसिन
6) व्यवहारिक आयुर्वेद
BAMS 3rd year syllabus in Hindi1) चरक संहिता – फर्स्ट वॉल्यूम-2
2) हेल्दी सर्किल और योग
3) डिसीज़ डायग्नोस्टिक एवं पैथोलॉजी
4) गायनोकॉलोजी एंड चाइल्ड डिसीज़ आब्सटेट्रिक्स
BAMS 4th year syllabus in Hindi1) सर्जिकल सिस्टम
2) पंचकर्म
3) शालाक्य तंत्र
4) रिसर्च methodology और मेडिकल स्टेटिस्टिक्स
5) काया चिकित्सा (मेंटल डिसीज़, वाजीकरण और रसायन)
BAMS 5th year syllabus in Hindi1) पीडियाट्रिक्स
2) सर्जिकल सिस्टम
3) पंचकर्म
4) आब्सटेट्रिक्स सिस्टम
5) शालाक्य तंत्र
6) फिजियोथेरेपी

Fee for BAMS Course (बीएमएस कोर्स में खर्चा)

bams-full-form-in-medical-bams-me-career-kaise-banaye-fees-details
Image By: Canva

बीएएमएस कोर्स में आने वाला खर्च कॉलेज या इंस्टिट्यूट पर भी निर्भर करता है। बीएएमएस कोर्स को करने के लिए आपको 1 साल में 15 हजार रुपए से लेकर 3 लाख रुपए BAMS Course Fees के रूप में जमा कराने होंगे। अगर आप बीएएमएस कोर्स करने के लिए government college का चयन करते हैं तो आपको कम फीस का भुगतान करना पड़ेगा। बल्कि प्राइवेट कॉलेज से बीएएमएस डिग्री करने के लिए आपको ज्यादा फीस देनी होगी।

इसके अलावा बीएएमएस कोर्स में आने वाली लागत आप के 12वीं कक्षा में प्राप्त अंकों पर भी निर्भर करती है। कई कॉलेज या इंस्टीट्यूट द्वारा 12वीं परीक्षा अच्छे अंको से पास करने के बाद आपको स्कॉलरशिप भी दी जाती है। परंतु BAMS Fees in Private College की बात की जाए तो इसके लिए आपको 10 लाख से 15 लाख रुपए भी fees के रूप में चुकाने पड़ सकते हैं।

हालांकि कई प्राइवेट कॉलेज भी आपको सस्ते में बीएएमएस की शिक्षा प्रदान करते हैं। अगर आप अच्छे कॉलेज से स्कॉलरशिप के साथ आयुर्वेदिक डॉक्टर की डिग्री लेना चाहते हैं तो आप एंट्रेंस एग्जाम की तैयारी भी कर सकते हैं। बीएएमएस course के लिए प्रवेश परीक्षा पास कर लेते हैं तो आपको किसी गवर्नमेंट कॉलेज में कम फीस के साथ दाखिला मिल जाता है।

ये भी पढ़ें: Physiotherapy में कैरियर कैसे बनाएं | Best Physiotherapy Colleges In India

BAMS Scope and Job in India (भारत में बीएएमएस में करियर स्कोप और नौकरी)

भारत में आयुर्वेद का विस्तार प्राचीन काल से ही हो रहा है। परंतु वर्तमान समय में भी आयुर्वेद का महत्व बहुत ज्यादा है। ऐसे में आपको बीएएमएस में अच्छा करियर स्कोप ही मिलने वाला है। बीएएमएस का कोर्स करने के पश्चात आप आयुर्वेदिक डॉक्टर के रूप में प्राइवेट और गवर्नमेंट जॉब कर सकते हैं।

इसके अलावा यदि आप खुद का आयुर्वेदिक क्लीनिक खोलते हैं तो भी आपको अच्छी खासी कमाई हो सकती है। आयुर्वेदिक डॉक्टर और इलाज की मांग हर क्षेत्र में बनी रहती है। हालांकि खुद का क्लीनिक खोलने के लिए आपको कुछ जरूरी कार्यवाही को पूरा करना होगा जिसके अंतर्गत क्लीनिक का रजिस्ट्रेशन भी शामिल है।

वैसे तो बीएएमएस की डिग्री के बाद आपके पास बहुत से Career Option मौजूद रहते हैं। परंतु अधिकतर लोग आयुर्वेदिक डॉक्टर बनने को ही प्राथमिकता देते हैं। फिर भी इस क्षेत्र में आपके पास कई विकल्प रहते हैं जिनका चयन आप इच्छा अनुसार कर सकते हैं।

बीएएमएस के बाद Lecturer, Therapist, Ayurvedic Pharmacist, Scientist, Medical Sales Representative भी बन सकते हैं। इसके अतिरिक्त Junior Clinical Trial Coordinator, Area Sales Manager, Product Manager, Sales Executive के रूप में भी सुनहरी भविष्य बनाया जा सकता है।

बीएएमएस कोर्स की पढ़ाई पूरी करने के उपरांत आप कई अन्य सेक्टर में भी जॉब पा सकते हैं। Hospital, Nursing Home, Clinical Trials, Education, Healthcare IT के क्षेत्र में बीएएमएस की डिमांड बहुत ज्यादा है। इसके अलावा Spa Resort, College, Research Institute, Life Science Center, Pharmacy Sector, पंचकर्म आश्रम में बेहतरीन जॉब विकल्प है।

यदि आप अपने करियर को और ऊंचाई पर ले जाना चाहते हैं तो बीएएमएस के पश्चात एमडी बनने के लिए स्पेशलाइजेशन कोर्स कर सकते हैं। किसी भी एक क्षेत्र में स्पेशलिस्ट बनने के लिए आपके पास कई सारे विकल्प रहते हैं जिनके अंतर्गत प्रसूति और स्त्री रोग विशेषज्ञ, पदार्थ विज्ञान, काया चिकित्सा, स्वास्थ्य वृत्त और शरीर रचना शामिल है।

इस क्षेत्र के अलावा भी आप शरीर क्रिया, रस शास्त्र, चरक संहिता, अगद तंत्र, शल्य तंत्र, रोग और विकृति विज्ञान आदि संबंधित स्पेशलाइजेशन कोर्स कर सकते हैं। MD (Master In Medicine) की डिग्री हासिल करने के लिए आपको पहले बीएएमएस पास करना होगा।

Top Companies For BAMS Job

बीएएमएस की डिग्री पूरी करने के पश्चात आपके सामने हजारों कंपनी के ऑफर आने शुरू हो जाते हैं। परंतु कुछ टॉप कंपनी में जॉब करना अपने आप में खास उपलब्धि हासिल करने जैसा होता है। अपनी पढ़ाई पूरी होने के पश्चात आप नीचे दी गई कंपनी में अपना करियर बनाने के लिए आवेदन कर सकते हैं:

  • Dabur
  • Vicco Laboratory
  • Patanjali
  • Himalaya Drug Company
  • Emami
  • Surya Herbal Limited
  • Jhandu Pharma
  • Charak Pharma
  • Baidyanath
  • Hamdard

Salary after BAMS (बीएमएस करने के बाद वेतन)

bams-full-form-in-medical-bams-salary
Image By: Canva

बीएएमएस करने के उपरांत आप एक आयुर्वेदिक डॉक्टर (बीएएमएस डॉक्टर) के रूप में शुरुआती स्तर पर ही ₹15000 से लेकर ₹50000 तक प्रति महीना कमा सकते हैं। हालांकि जैसे-जैसे आपका एक्सपीरियंस बढ़ता जाएगा या फिर आप सरकारी संस्थान में कार्यरत होंगे तो आपकी तनख्वाह प्रति महीना दो लाख रुपए से 5 लाख रुपए तक भी हो सकती है।

ये भी पढ़ें: ऑडियोलॉजी में कैरियर कैसे बनाएं | 10 Best College for Audiology Course

Top BAMS College in India in Hindi (भारत में टॉप बीएएमएस कॉलेज की सूची)

  1. स्टेट आयुर्वेदिक कॉलेज, लखनऊ
  2. श्री धनवंतरी आयुर्वेदिक कॉलेज, चंडीगढ़
  3. दयानंद आयुर्वेदिक कॉलेज, जालंधर
  4. राजीव गांधी यूनिवर्सिटी ऑफ हेल्थ साइंस, बेंगलुरु
  5. भारती विद्यापीठ, पुणे
  6. गुजरात आयुर्वेद यूनिवर्सिटी, जामनगर
  7. आयुर्वेद महाविद्यालय, मुंबई
  8. गवर्नमेंट आयुर्वेदिक कॉलेज, रायपुर
  9. जे.बी रॉय स्टेट मेडिकल कॉलेज, कोलकाता
  10. आयुर्वेदिक मेडिकल कॉलेज, कोल्हापुर
  11. ऋषि कुल गवर्नमेंट पीजी आयुर्वेदिक कॉलेज और हॉस्पिटल, हरिद्वार
  12. श्री आयुर्वेद महाविद्यालय, नागपुर
  13. नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ आयुर्वेद, जयपुर
  14. श्री कृष्णा गवर्नमेंट आयुर्वेदिक कॉलेज, कुरुक्षेत्र
  15. अष्टांग आयुर्वेद कॉलेज, इंदौर
  16. एनटीआर यूनिवर्सिटी ऑफ हेल्थ साइंस, विजयवाड़ा
  17. आयुर्वेदिक और यूनानी तिब्बिया कॉलेज, न्यू दिल्ली
  18. राजीव गांधी गवर्नमेंट आयुर्वेदिक कॉलेज, कांगड़ा
  19. गवर्नमेंट आयुर्वेदिक कॉलेज, नागपुर
  20. स्टेट आयुर्वेदिक कॉलेज और हॉस्पिटल, गुरुकुल कांगड़ी, हरिद्वार

Frequently Asked Questions (FAQs)

बीएएमएस की फीस कितनी होती है?

बीएएमएस कोर्स की फीस गवर्नमेंट कॉलेज में 3 लाख़ रुपये प्रति वर्ष तक होती है। वहीं प्राइवेट कॉलेज में इस पूरे कोर्स की फीस रु. 10 लाख़ से रु. 15 लाख़ तक होती है।

बीएएमएस करने के बाद क्या क्या कर सकते हैं?

बीएएमएस पास करने के बाद आप इसकी मास्टर डिग्री का कोर्स कर सकते हैं। इस मास्टर कोर्स का नाम MD यानी कि मास्टर इन मेडिसिन होता है।

बीएएमएस और एमबीबीएस में क्या अंतर है?

बीएएमएस कोर्स किये हुए छात्र, आयुर्वेदिक डॉक्टर कहलाते हैं और एमबीबीएस कोर्स किये हुए डॉक्टर, एलोपैथी डॉक्टर कहलाते हैं।

बीएएमएस करने के लिए क्या करना पड़ता है?

बीएएमएस कोर्स में एडमिशन लेने के लिए छात्र को फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायोलॉजी विषयों के साथ न्यूनतम 50% अंकों के साथ 12वीं पास करना ज़रूरी है।

निष्कर्ष

दोस्तों! आज के इस महत्वपूर्ण आर्टिकल- BAMS Full Form in Hindi, How to make career in BAMS, में हमने आपको बारहवीं कक्षा के बाद बीएएमएस में करियर कैसे बनाएं संबंधित सभी प्रकार की आवश्यक जानकारी उपलब्ध कराई है।

हम आशा करते हैं कि आपको BAMS से जुड़े सभी सवालों के जवाब मिल गए होंगे। यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया हो तो कृपया इसे सोशल मीडिया द्वारा अपने दोस्तों के साथ ज्यादा से ज्यादा साझा करें।

बीएएमएस से सम्बंधित अन्य सवालों के लिए आप हमें कमेंट करके बता सकते हैं। हम आपके सवालों का जवाब ज़रूर देंगे।

ये भी पढ़ें: रेडियोलॉजी में कैरियर कैसे बनाएं | रेडियोलॉजिस्ट कैसे बनें

Sharing Is Caring:

Leave a Comment