Interior Designer कैसे बने | योग्यता, कोर्स, कॉलेज, सैलरी, स्कोप और अवसर

Interior Designer एक ऐसी जॉब है जो इंडिया में पिछले कुछ वर्षों में बहुत पोपुलर हो रही है। यह जॉब उन लोगों के लिए बिल्कुल फिट है जिन्हे रंगों की समझ है, और रंगों के combination का इस्तेमाल करना बखूबी जानते हैं।

Interior Designer, अपनी Skills का इस्तेमाल कर घर, ऑफिस, वर्कशॉप आदि के अंदर के लुक को एकदम से चेंज कर देते हैं। वाल पेंटिंग कहाँ लगानी है, कॉर्नर टेबल पर किस तरह का Decorative Piece रखना है, सोफ़ा किस तरह रखना है, छत पर कैसी डिजाइन बनानी है आदि काम भी उसके जॉब प्रोफाइल में आते हैं।

पहले Interior Design का काम केवल अमीर घरों और ऑफिस तक सीमित था। मगर अब लगभग सभी लोग इंटीरियर डिजाइनर की सर्विसेज़ ले कर घर और ऑफिस को खूबसूरत बनाने लगें हैं। यही उचित समय है कि, युवाओं को Interior Design में अपना Career बनाने की संभावनाएं जरूर तलाशनी चाहिए।

interior-designer-kaise-bane
Interior Designer in Hindi: Photo by Houzlook .com from Pexels
Contents show

इंटीरियर डिजाइनर कैसे बनें | Interior Designer Kaise Bane

इसके लिए किसी भी अच्छे संस्थान से इंटीरियर डिजाइन का कोर्स करना बहुत जरूरी है। ये कोर्स (diploma in interior designing after 12th) 10+2 के बाद से ही उपलब्ध हो जाते हैं। कोर्स कम्प्लीट करके आप Interior Design के क्षेत्र में अच्छी नौकरी पा सकते हैं।

कोर्स के अतिरिक्त, इंटीरियर डिज़ाइनिंग में जिस कौशल की जरूरत पड़ती है वो है इंटीरियर डिजाइन के प्रति आपकी रुचि, चाहत, जुनून, कल्पना, कलात्मकता और रचनात्मकता। अगर यह सब गुण आपके अंदर मौजूद हैं तो आप को इसमें कैरियर बनाने में ज़रा भी दिक्कत नहीं आएगी।

इंटीरियर डिजाइनर बनने के लिए योग्यता | How to become an Interior Designer

Interior Designer बनने के लिए आपको किसी भी मान्यता प्राप्त विद्यालय से 10+2 अथवा 12 वीं कक्षा में पास होना जरूरी है। 12 वीं कक्षा में आपके विषय फिजिक्स, केमिस्ट्री, मैथ या फिर फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायोलॉजी होने चाहिए।

10+2 में आपके marks कम से कम 55% होने चाहिए। अगर आपके मार्क्स किसी कारणवश कम आते हैं तो आप Interior Designing में कोर्स करने से वंचित हो सकते हैं। इसलिए मेहनत से पढ़ाई करें और अच्छे अंकों से 10+2 की परीक्षा पास करें।

बहुत सारे संस्थान उपरोक्त योग्यता के साथ साथ प्रवेश परीक्षा (interior design entrance exam) भी लेते हैं, जिसमें पास होने के बाद ही आपको उस संस्थान में प्रवेश दिया जाता है। इसलिए आप पहले से ही इन संस्थानों और उनके द्वारा आयोजित की जाने वाली प्रवेश परीक्षाओं की जानकारी कर लें। इस पोस्ट में मैंने कुछ अच्छे संस्थानों की सूची दी है जिनके बारे मे आप इंटरनेट से entrance exam for interior designing संबंधी जानकारी ले सकते हैं।

इंटीरियर डिजाइनर बनने के लिए कौन सा कोर्स करें | Interior Design Courses after 12th

Interior Designer बनने के लिए इंडिया में 4 तरह के कोर्स (interior design course details) उपलब्ध हैं – सर्टिफिकेट कोर्स, डिप्लोमा कोर्स, अन्डरग्रेजुएट कोर्स और मास्टर कोर्स। पोस्टग्रेजुएट अथवा मास्टर कोर्स करने के लिए Interior Design के किसी भी पाठ्यक्रम से स्नातक होना चाहिए ।

अल्पकालीन सर्टिफिकेट कोर्स | Short Term Certificate Courses

Interior design course duration कोर्स की अवधि : 11 से 12 माह

  • सर्टिफिकेट इन स्टाइलिंग फॉर होम
  • सर्टिफिकेट इन टेक्सटाइल्स फॉर इंटीरियर एण्ड फैशन
  • प्रोफेशनल सर्टिफिकेट इन स्टाइलिंग फॉर इंटीरियर
  • सर्टिफिकेट इन प्रिन्ट डिजाइन फॉर अपैरल एण्ड होम

डिप्लोमा कोर्स | Interior design diploma course (Diploma in interior design)

  • डिप्लोमा इन इंटीरियर डिज़ाइनिंग – अवधि : 01 वर्ष
  • अड्वान्स डिप्लोमा इन इंटीरियर डिज़ाइनिंग : अवधि : 1 वर्ष 06 माह
  • मास्टर डिप्लोमा इन इंटीरियर डिज़ाइनिंग : अवधि : 02 वर्ष

अन्डरग्रेजुएट कोर्स | Undergraduate Course for interior design

  • बी एस सी इन इंटीरियर डिज़ाइनिंग – अवधि : 03 वर्ष
  • बी एस सी इन इंटीरियर डिजाइन एण्ड डेकोरेशन : अवधि : 03 वर्ष
  • अन्डरग्रेजुएट प्रोग्राम इन इंटीरियर डिज़ाइन : अवधि : 04 वर्ष

पोस्टग्रेजुएट कोर्स | Postgraduate Courses

  • पोस्ट ग्रेजुएट प्रोग्राम इन इंटीरियर डिजाइन एण्ड स्टाइलिंग – अवधि : 02 वर्ष
  • एम एस सी इन इंटीरियर डिज़ाइनिंग एण्ड बिजनेस मैनेजमेंट – अवधि : 02 वर्ष

Interior Design में कोर्स करने के लिए कौन से इंस्टीट्यूट ज्वाइन करें | Top 10 Interior Designing Colleges in India

group-of-students-discussing-interior-designer-kaise-bane
Interior Designer Kya Hota Hai: Photo by Kampus Production from Pexels

वैसे तो इंडिया में बहुत सारे Institute और College हैं जो Interior Designing में कोर्स कराते हैं। मगर सभी कॉलेज पूरी तरह अच्छे नहीं हैं। अगर किसी मे कोर्स का पाठ्यक्रम अच्छा है तो फैकल्टी अच्छी नहीं है। कुछ कॉलेज में फैकल्टी अच्छी है पर प्लेसमेंट नहीं है।

यहाँ मैं इंडिया के best colleges for interior designing के नाम शेयर कर रहा हूँ जिनमें Interior Design के अच्छे Course उपलब्ध हैं, Faculty अच्छी है और Placement भी अच्छा है। अगर आप इनमें से किसी भी कॉलेज में Interior Designing का कोर्स करते हैं, तो आपके सफ़ल होने के Chances बढ़ जाते हैं।

Top 10 Interior Designing Colleges in India

  • इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ आर्ट एण्ड डिजाइन, दिल्ली
  • आई आई एफ ए मल्टीमीडिया, बैंगलुरु
  • आई आई एफ ए लंकस्टर डिग्री कॉलेज, बैंगलुरु
  • साईं स्कूल ऑफ इंटीरियर डिजाइन, नई दिल्ली
  • आई आई एल एम स्कूल ऑफ डिजाइन, गुरुग्राम
  • नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डिजाइन, दिल्ली
  • आर्क एकेडमी ऑफ डिजाइन, जयपुर
  • नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, रायपुर
  • वोग इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी, बैंगलुरु
  • नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी, दिल्ली

इंटीरियर डिजाइनर की मासिक सैलरी | Monthly Salary of Interior designer in India

Interior designing salary: दोस्तों, इंटीरियर डिजाइन का क्षेत्र बहुत विस्तृत है। इंटीरियर डिजाइनिंग के लिए आपको किसी भी प्रकार की जॉब प्रोफाइल में काम करना पड सकता है। इन जॉब प्रोफाइल के अनुसार और आपके अनुभव के आधार पर सैलरी डिसाइड होती है।

अगर आप Fresher हैं और आपको इस क्षेत्र में काम करने का कोई अनुभव नहीं है तो आरंभ में आपको रु 10,000/- प्रतिमाह से ले कर 15,000/- प्रतिमाह मिल सकते हैं। अनुभव होने के बाद और Assistant Interior Designer बने के बाद आपकी सैलरी में अच्छा खास इजाफा हो जाता है। इसमें आपकी सैलरी रु 30,000/- प्रति माह से ले कर रु 40,000/- प्रति माह तक भी हो सकती है।

अगर आप किसी अच्छी और नामी गिरामी कंपनी में Senior Interior Designer बन जाते है, तो आपकी सैलरी रु 60,000/- प्रति माह से लेकर रु 2,00000 प्रति माह भी हो सकते है।

इंडिया में इंटीरियर डिज़ाइनिंग का स्कोप | Scope of Interior Designing in India

happy-and-confident-man-after-making-career-in-interior-designing
Interior Designer Ki Salary Kitni Hoti Hai: Photo by The Lazy Artist Gallery from Pexels

वर्तमान समय में इंडिया में इंटीरियर डिज़ाइनिंग की डिमांड बहुत तेजी से बढ़ी है। जहाँ एक तरफ इंटीरियर डिज़ाइनिंग की इंडस्ट्री द्रुत गति से बढ़ रही है, वहीं इसमे कैरियर की संभावनाएं भी बढ़ रही हैं। अब लोग घरों की डेकोरेशन और इंटीरियर पर भी भरपूर पैसा खर्च करने लगे हैं।

इस क्षेत्र में, Interior Decorator, Home Decorator, Interior Designer, Exhibition, Theatre और Set Designer तथा Window Display Designer के रूप में कैरियर के अपार अवसर हैं। अगर आप इंटीरियर डिज़ाइनिंग में अपना कैरियर बनाते हैं तो आपको इन जगहों पर काम करने का अवसर प्राप्त होगा:

  • होटल / रेस्टोरेंट
  • कॉर्पोरेट ऑफिस / कॉन्फ्रेंस हाल
  • स्कूल / कॉलेज / संस्थान
  • घर / अपार्टमेंट
  • म्यूजियम / लाईब्रेरी
  • सिनेमा हाल / स्टेडियम
  • शॉपिंग माल
  • एयरपोर्ट / रेलवे स्टेशन / मेट्रो स्टेशन / बस स्टेशन
  • शोरूम
  • ब्रांडेड कॉफी शॉप / सैलून
  • एमयूज़मेंट पार्क

FAQs- Interior Designer in Hindi

इंटीरियर डिजाइनर का काम क्या होता है?

इसका काम घर, ऑफिस, गोदाम, शॉप आदि के अन्दर जगह को अच्छे से उपयोग करके साज सज्जा करना होता है। यह अपनी स्किल्स का इस्तेमाल करके अन्दर के पूरे लुक को ही चेंज कर देते हैं।

इंटीरियर का मतलब क्या होता है?

इंटीरियर का मतलब घर, वर्कशॉप, गोदाम, ऑफिस आदि के अन्दर कि दीवार, छत, दरवाजे, आदि होता है। इसमें इसके अन्दर के स्पेस को भी consider किया जाता है।

इंटीरियर डिज़ाइन कोर्स कितने साल का होता है?

अगर आप इसमें डिप्लोमा कोर्स करते हैं तो इसके लिए 1 साल का समय लगेगा।

डिग्री कोर्स करने के लिए 3 साल का समय लगता है।

इंटीरियर डिजाइन करने के लिए क्या करना पड़ता है?

इस काम के लिए व्यक्ति के अन्दर रंगों की समझ, जगह का सही इस्तेमाल और किफायती दाम में डेकोरेटिव सामान का इस्तेमाल करने की कला होनी चाहिए।

इंटीरियर डिजाइनिंग सीखने के लिए बहुत से कोर्स उपलब्ध हैं। सुविधानुसार इनमें से कोई भी कोर्स किया जा सकता है।

इंटीरियर डिजाइनिंग में कितने सब्जेक्ट होते हैं?

इसके सिलेबस में करीं 15 विषयों के बारे में पढ़ाया जाता है। ये सभी विषय डिजाइनिंग से ही सम्बंधित होते हैं जैसे – Model Making, Colour Theory, Web Designing, Graphics Designing, Furniture Design, Materials, Cost Estimation आदि।

इंटीरियर डिजाइनर बनने के लिए क्या करना पड़ता है?

अगर आप डिप्लोमा करना चाहते हैं तो इसके लिए 10th क्लास में कम से 50% अंको से पास होना होगा।

इंटीरियर डिजाइनिंग डिग्री कोर्स करने के लिए न्यूनतम योग्यता 12वीं पास है। इसके बाद आप 3 साल का डिग्री कोर्स कर सकते हैं।

निष्कर्ष

तो दोस्तों, आपने देखा कि यह कोर्स करके, इन्टीरियर डिज़ाइनिंग में कैरियर बनाने का जबरदस्त स्कोप है। इसमें कड़ी मेहनत और कार्य कुशलता से आप सैलरी और कमीशन के रूप में प्रति माह अच्छी रकम उठा सकते हैं और और अच्छी ज़िंदगी जी सकते हैं।

हमें उम्मीद है कि आपको हमारा ये पोस्ट Interior Designer Kaise Bane, Interior Designing me career Kaise Banaye आपको पसंद आया होगा। इस पोस्ट से सम्बंधित सुझाव देने के लिए कृपया हमें कमेंट ज़रूर करें।

ये भी पढ़ें:

Sharing Is Caring:
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x